Saturday, February 4, 2023

बाघ के बारे में जानकारी 2021 | About Tiger In Hindi

दोस्तों आज मैं इस ब्लॉक में आपको बताने वाला हूं बाघ के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है about tiger in hindi। बाघ के बारे में जानना सभी को बहुत ही आवश्यक है क्योंकि कई लोगों को इसके बारे में नहीं पता इसलिए गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते हैं जैसे कि information of tiger in hindi , tiger information in hindi

तो चलिए शुरू करते हैं

बाघ के बारे में जानकारी | about tiger in hindi | information of tiger in hindi

बाघ के बारे में जानकारी 2021 | About Tiger In Hindi

बाघ के बारे में हम सभी कभी ना कभी सुने होंगे लेकिन उसके बारे में पूरी जानकारी इकट्ठे कर पाना मुश्किल है क्योंकि चीता बहुत ही तेज होता है।

बाघ एक बहुत ही ताकत और पशु है जो जंगल में रहता है यह स्तनधारी पशु होते हैं। बाघ मांसाहारी पशुओं में आते हैं यह जब भी भोजन ग्रहण करते हैं तब मांस सिखाते हैं क्योंकि यह शाकाहारी भोजन नहीं खा सकते।

बाघ तिब्बत अंडमान निकोबार और श्रीलंका को छोड़कर एशिया के सभी देशों में पाया जाता है बस यह तीन स्थानों पर ही नहीं पाए जाते। भारत, नेपाल, भूटान, कोरिया और इंडोनेशिया इन देशों में बाघ सबसे अधिक पाए जाते हैं हमारा भारत उसी में से एक है।

बाघ का रंग पीला और लाल रंग का मिश्रण होता है और साथ ही इसके शरीर पर काले लंबे धारिया बनी होती है लेकिन इसके पैर का भाग अर्थात इसका पंजा सफेद रंग का होता है।

बाघ की लंबाई 13 फीट तक हो सकती है और इसका वजन 300 किलो तक हो सकता है चीता एक बहुत ही लंबा वजनदार और ताकतवर प्राणी है यह हमारे भारत का राष्ट्रीय पशु भी है।

चीता का वैज्ञानिक नाम पेंथेरा टिग्रिस है। बाघ का यह नाम हमारे भारतीय संस्कृत के व्याघ्र का तदभव रूप से उत्पन्न हुआ है। बाघ को जंगल दलदली अस्थान एवं घास के मैदानों में रहना पसंद है यह मांसाहारी भोजन ग्रहण करता है।

बाघ की पहचान उसके शरीर पर काले रंग की धारियों से भी किया जा सकता है और यह अपनी लंबाई ताकतवर की वजह से भी लोग इसे पहचान सकते हैं। बाघ का मुख्य भोजन हिरण चित्तीदार घोड़ा भैंसा जंगली सूअर पालतू पशु एवं मनुष्य हैं यदि यह मनुष्य को देख ले तो वह उनको भी मार कर खा जाए।

बाघ सुनने और सूंघने की क्षमता में सबसे अधिक है अर्थात इसकी सुघने और सुनने क्षमता सबसे तीव्र होती है यह अपने शिकार पर पीछे से हमला करता है जब या अपने शिकार के पीछे पड़ा रहता है तब इसके चित्तीदार शरीर की वजह से यह खुद को झाड़ियों में इस तरह छुपा लेता है कि उसका शिकार उसे पहचान नहीं पाता और सही मौका देखकर वह उन पर हमला करके उनको मार गिराता है।

यह सब जानवरों में बहुत तीव्रता के साथ भाग सकता है लेकिन यह अपने वजनदार शरीर की वजह से पीछे रह जाता है अर्थात यह बहुत ही कम समय में थक कर शिकार का पीछा करना छोड़ देता है।

यह अपना शिकार करने के लिए झाड़ियों में छिप कर अपने शिकार के नजदीक पहुंचता है फिर वहां से उसके ऊपर छलांग लगाता है यदि वह वहां से भी अपनी शिकार को ना पा सका तो वह उन्हें छोड़ देता है लेकिन कई प्रयासों के बाद ही उसको सफलता प्राप्त होती है।

एक मादा बाघ दो से तीन बच्चों को जन्म देती है और वह उनके साथ ही रहती है बाघ के बच्चे शिकार करने की सभी कलाओं को अपने मां से ही सीखते हैं और जब वह 2 वर्ष के हो जाते हैं तब उनकी मां उनसे अलग हो जाती है और बच्चे अपने शिकार स्वयं करना शुरू कर देते हैं।

बाघ पूरी दुनिया में लगभग 6000 ही रह गए हैं जिनमें से 4000 बाघ हमारे भारत देश में पाए जाते हैं। बाघ की प्रजातियां बहुत ही तीव्रता के साथ विलुप्त हो रही है इसीलिए अप्रैल सन 1973 में बाघ को बचाने के लिए अभियान शुरू किए गए थे। बाघ की 9 प्रजातियों में से अब 3 प्रजातियां पूरी तरह से विलुप्त हो चुकी है और बाकी की 6 प्रजातियां भी धीरे-धीरे विलुप्त होने की कगार पर आ चुकी है इसीलिए इनको बहुत ज्यादा प्रोटेक्ट किया जा रहा है।

हम सभी को ऐसे निशानी मिले हैं जैसे यह साबित होता है की बाग चीन में अर्थात बाग के पूर्वज चीन में रहा करते थे। वैज्ञानिकों ने भाग की एक विलुप्त उप प्रजाति के डीएनए से यह ज्ञात किया है की बाग मध्य चीन से भारत आए थे और यह जिस रास्ते से आए थे वर्तमान समय में उस रास्ते को रेशम मार्ग कहा जाता है।

बात एक बहुत ही चालाक पशु है उसे अपने शिकार को अपने पंजों में दबोच ना बहुत अच्छी तरह से आता है लेकिन वह अपने शरीर के वजन से कई बार शिकार को नहीं पा पाता इसलिए उसे कई बार भूखा ही रहना पड़ जाता है लेकिन वह फिर भी हार नहीं मानता और कोशिश करते हुए वह एक बार अपने मकसद में कामयाब हो ही जाता है।

यदि कोई जंगली पशु एवं मनुष्य बाग के आसपास में पहुंच जाए तो वह सूंघ कर पता लगा सकता है कि यह किस दिशा में है और वह उसी के मुताबिक अपने चाल को बनाता है और अपने शिकार को मार गिराता है।

बाघ की विलुप्त प्रजातियों को देखकर हमारे सरकार ने उनको प्रोटेक्ट करने के कई अधिनियम लागू किए हैं और अब चिड़िया घरों में भी बाघ को सुरक्षित रखा गया है ताकि हम उनकी प्रजातियों को बचा सके यदि आपको बाघ को देखना है तो आप अपने किसी भी नजदीकी चिड़ियाघर में जा सकते हैं और वहां पर उनको देख सकते हैं।

भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां पर सबसे अधिक बाघ पाए जाते हैं। अन्य देशों में भी बाघ की मात्रा है लेकिन हमारे भारत की जितनी नहीं हमारे भारत में कुल 4 हजार से अधिक बाघ की संख्या है। बाघ हमारा राष्ट्रीय पशु है इसलिए इसे बचाना हम सभी का धर्म है।

Read Also – Mogra Flower Information In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया, about tiger in hindi। अगर आपको यदि से पसंद आया हो तो आप इसे अपने रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आप चाहते हैं कि हम इसी तरह के about tiger in hindi अन्य विषय पर भी आपको जानकारी दे तो आप उसके लिए भी हमें कमेंट कर सकते हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,698FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles