अब्राहम लिंकन के बारे में जानकारी 2021 | Abraham lincoln biography in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने वाले हैं अब्राहम लिंकन के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है abraham lincoln biography in hindi। अब्राहम लिंकन का नाम आप सभी ने कभी ना कभी सुना होगा लेकिन उनके जीवन शैली तथा उनके कार्यों के बारे में आपको नहीं पता इसलिए गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते रहते हैं जैसे कि abraham lincoln story in hindi , abraham lincoln history in hindi।

तो चलिए शुरू करते हैं।

अब्राहम लिंकन के बारे में जानकारी | Abraham lincoln biography in hindi | abraham lincoln story in hindi

Abraham lincoln biography in hindi

अब्राहम लिंकन का जन्म 12 फरवरी 1809 में किट्टू की अमेरिका में हुआ था इनके पिता का नाम थॉमस लिंकन तथा इनकी माता का नाम नैंसी था यह अमेरिका में रहने वाले व्यक्ति थे। इनके पिता एक मजबूत और निर्धारित मार्ग प्रशस्त करने वाले व्यक्ति थे जिस वजह से समाज एवं व्यक्तियों में उनका सम्मान बना रहता था लोग उनका बहुत सम्मान किया करते थे अब्राहम लिंकन तीन भाई बहन थे उनकी एक बड़ी बहन थी जिसका नाम सारह था और उनका एक छोटा भाई जिसका नाम थॉमस था।

सन 18 सो 17 में थॉमस लिंकन तथा उनके परिवार को केतुकी से इंडिआना के पैरी अकाउंट में आना पड़ा क्योंकि वह जहां पर रहते थे वहां पर जमीन पर विवाद उत्पन्न हो गए थे और जब यह पैरी काउंटी में आए तब इनके परिवार को बहुत समस्याओं का सामना करना पड़ा लेकिन अंत में इनके पिताजी ने एक जमीन खरीदी।

5 अक्टूबर सन 18 सो 18 में अब्राहम लिंकन की माता की मृत्यु हो गई तब अब्राहम लिंकन की आयु 9 वर्ष की थी और इनकी माता की आज 34 वर्ष की हो गई थी। उनकी माता की मृत्यु के बाद अब्राहम लिंकन अपने पिता से दूर होते जा रहे थे उसके बाद लगभग 1 साल के सन 1819 में उनके पिता ने दूसरी शादी करी जिनका नाम सारह बुश जानसन था। यह एक विधवा महिला थी जिसके 3 बच्चे थे लेकिन यह बहुत ही मजबूत और स्नेह ही महिला थी इनके साथ अब्राहम लिंकन की अच्छी बॉन्डिंग होती जा रही थी।

अब्राहम लिंकन के पिता एवं माता दोनों ही पढ़े-लिखे नहीं थे परंतु उनकी माता ने उनको पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया। उनके पास इतना पैसा नहीं था कि वह ब्राह्मण को अच्छे से पढ़ा सके पैसे कम होने की वजह से अब्राहम लिंकन को किताबे आसानी से उपलब्ध नहीं होती थी जिसके कारण थॉमस को किताबें लेने के लिए अधिक दूर तक जाना पड़ता था और अब्राहम लिंकन अपनी पढ़ाई घर पर ही पूरी कर रहे थे।

अब्राहम लिंकन ने मार्च 1830 में अपने परिवार के साथ मैकन काउंटी में रहने को आए उस समय उनकी आयु 22 वर्ष की थी और वहां पर आकर उन्होंने मजदूरी करना शुरू किया वह शरीर से बहुत कमजोर थे किंतु उनकी हाइट 6 फुट 4 इंच की थी। अब्राहम लिंकन छोटी मोटी नौकरियां किया करते थे जिसे चौकीदारी दुकानदार और अंत में उन्होंने जर्नल स्टोर खोलो और यह कार्य इनका कई सालों तक चला उसके पश्चात अब्राहम लिंकन ने 1837 में राजनीतिक की तरफ अपना कदम उठाया और वे व्हिग पार्टी के नेता बने।

अब्राहम लिंकन के सारे चुनाव लड़े थे किंतु उनको आर्थिक विकास ना होने और गरीबों को न्याय दिलाने के लिए उन्होंने यह फैसला किया कि वह वकील बनकर गरीबों को न्याय दिलाएंगे और उन्होंने अपनी वकालत की पढ़ाई आरंभ करें। अब्राहम लिंकन ने सन 1844 में विलियम हेर्नदों के साथ वकालत सीखी तथा उसके कुछ समय बाद वह वकील बन गए लेकिन वकील बनने के बाद भी उन्होंने ज्यादा पैसा नहीं कमाया लेकिन उनको मानसिक शांति और संतोष मिला।

उसके पश्चात सन 18 सो 54 में अब्राहम लिंकन ने एक बार फिर से राजनीति की तरफ अपना कदम बढ़ाया और वह बहुत से चुनाव में खड़े हुए तब उनकी पार्टी व्हीग पार्टी थी लेकिन वह पार्टी भी कुछ समय पश्चात खत्म हो गई और सन 1856 में अब्राहम लिंकन ने गणतंत्र वाद के सदस्य बने और वह उस पार्टी के बहुत ही अच्छे नेता हुए। उसके पश्चात अब्राहम लिंकन ने राष्ट्रपति के पद के लिए चुनाव में खड़े हुए लेकिन कम वोटों की वजह से वह हो उस चुनाव को हार गए।

अब्राहम लिंकन देश में गुलामी प्रथा को खत्म करने के लिए कई सारे कार्य किए उन्होंने एक अपने भाषण में कहा था कि राष्ट्र का बंटवारा नहीं हो सकता आधे गुलाम और आधे बिना गुलाम नहीं रह सकते सभी को एकजुट होकर ही रहना होगा और अब्राहम के कई सारे अच्छे कार्य को देखते हुए उनको अमेरिका का राष्ट्रपति चुना गया। अमेरिका में दक्षिणी राज्य तथा उत्तरी राज्य के बीच गृह युद्ध शुरू हो गया क्योंकि वहां के गोरे लोग काले लोगों को अपनी खेती करने के लिए भुला देते और उनको हमेशा अपना गुलाम बना कर रखते थे जिस वजह से दक्षिणी लोग अपना खुद का देश बनाना चाहते थे और एकजुट होकर रहना चाहा था जो 18 से 61 से लेकर 1865 तक चला और इस युद्ध में उत्तरी राज्य विजई हुआ।

सिर्फ ऐसा नहीं कहा जा सकता कि यह सिर्फ गुलामी प्रथा को खत्म करने के लिए था बल्कि यह युद्ध अलग-अलग तरह के विचार धारणाओं को खत्म करना था। सन 18 सो 1 में उत्तरी राज्य ने इस प्रथा के लिए एक कानून बनाया था इस वजह से उत्तर के निवासी मशीन युग के आर्थिक रूप से उपयोग करने लगे और वहां के आर्थिक स्थिति सुधरने लगी उनकी जनसंख्या भी बहुत ही तीव्रता के साथ बढ़ रही थी किंतु दक्षिणी राज्य के निवासी सिर्फ खेती पर आधारित है जिस वजह से वहां की प्रगति नहीं हो सकी और वहां की जनसंख्या में भी अधिक बढ़ोतरी नहीं हुई।

14 अप्रैल 1865 में जॉन विल्केस बूथ ने अब्राहम लिंकन की हत्या कर दी उनकी मृत्यु का स्थान अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन डीसी है और इनकी मृत्यु के बाद यह देश अपने सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपति की मृत्यु हो गई। कई सारी विचारधारा नदी है जो लोगों को बहुत प्रेरित करती है जिनमें से एक बहुत ही प्रसिद्ध है तारीफ हर कोई पसंद करता है।

 

Read Also – Rohit sharma biography in hindi

 

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया abraham lincoln biography in hindi। अगर आपको इनके बारे में जानकारी अच्छा लगा हो तो इसी दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आपका कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट में बेझिझक पूछ सकते हैं।

Leave a Comment