ईद के बारे में जानकारी 2021 | Eid Information In Hindi

दोस्तो आज मैं आप को बताऊंगा ईद के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है eid information in hindi। ईद बारे में जानना हम सभी को आवश्यक है क्योंकि यह हमारे भारतवर्ष के मुस्लिम भाइयों का बहुत ही खास त्यौहार है इसलिए मैं आज पूरी कोशिश करूंगा कि मैं आपको information on eid in hindi पूरी जानकारी दू।

तो चलिए शुरू करते हैं eid festival information in hindi

ईद के बारे में जानकारी | eid information in hindi | eid festival information in hindi

ईद के बारे में जानकारी 2021 | Eid Information In Hindi

ईद हमारे भारत देश में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि हमारे देश में कई धर्म और समुदाय के लोग रहते हैं जिनका अलग-अलग त्यौहार होता है लेकिन हम भारतवासी हर त्यौहार को बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं उसी तरह ईद का त्यौहार भी हमारे देश में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है हमारे देश में जितने भी मुस्लिम समुदाय के लोग हैं उनके लिए यह त्यौहार बहुत ही खास पर्व होता है क्योंकि वह लोग 30 दिन का रोजा रखते हैं अर्थात 30 दिन तक वह अपना थूक भी अंदर नहीं ले जाते रात के समय में वह लोग भोजन करते हैं लेकिन पूरे दिन में वह एक बूंद भी पानी अपने मुंह के अंदर नहीं लेकर जाते और जब ईद आता है तब उस दिन बहुत ही जश्न के साथ ईद को मनाया जाता है।

जितने भी मुस्लिम धर्म के लोग हैं वह एक दूसरे को ईद के दिन गले लगाकर बधाई देते हैं और एक दूसरों को अपने घर पर बुलाकर शीर कोरमा खिलाते हैं। इस दिन चांद को देखकर वह लोग अपना रोजा तोड़ते हैं। बहुत ही खास त्यौहारों में से एक माना जाता है यह त्यौहार क्योंकि इस दिन मुस्लिम धर्म के लोग और हिंदू धर्म के लोग भी उनको ईद की बधाई देते हैं जिस वजह से हमारे देश में भाईचारा और भी अधिक बढ़ता है।

ईद का यह त्यौहार रमजान के 1 मंथ बाद आता है क्योंकि रमजान के महीने में हमारे मुस्लिम समुदाय के लोग एक मंतव्य रखते हैं अर्थात 1 मंथ तक उपवास रखते हैं उसके बाद ईद का त्यौहार जब आता है तब चांद को देखकर वह रोजा तोड़ा जाता है इस दिन सभी मुस्लिम धर्म के लोग एक दूसरे को गले लगाकर बधाई देते हैं और उनकी बरकत की दुआ करते हैं।

ईद के त्यौहार जिन लोगों के पास अधिक पैसे वह अपने मजदूर एवं गरीब लोगों को फितरा देते हैं ताकि वह लोग भी नए कपड़े और मिठाई खरीद के ईडन यह त्यौहार माना सके।

यह त्यौहार भाईचारे का त्यौहार है जैसे हिंदुओं में होली भाई चारे का त्योहार है उसी तरह ईद भी भाईचारे का पर्व है इस्लाम धर्म के लोग एक दूसरे को गले लगाते है ताकि वह नफरत को मिटा कर प्यार को बढ़ा सके।

ईद के दिन जब मस्जिदों में सुबह की प्रार्थना होती है उसके पहले जितने भी मुस्लिम धर्म के लोग है उनका फर्ज है की वो सभी लोग दान और भिक्षा दे। इस दान को जकात उल फितर भी कहा जाता है। इस दान में वह सामग्री होती है जिसे हम प्रतिदिन खा सके अगर मैं आप को उदाहरण दू तो आप दाल चावल या आटा दे सकते है लेकिन वह 2 किलोग्राम या उससे अधिक होना जरूरी है।

जब रमजान का महीना बीत जाता है अर्थात रोजा खतम हो जाता है तब मुस्लिम धर्म के लोग अल्लाह से दुआ और शुक्रिया दोनो करते है। शुक्रिया इसलिए अदा करते है क्युकी उनका ऐसा मानना है की अल्लाह की शक्ति से उन्होंने 30 दिन तक रोजा रख पाया।

ईद का दिन रमजान के दिन का अंत हो गया इसका प्रतीक है। वह लोग जब रमजान के महीने में रोजा रखते है तो सुबह 4 बजे के बाद और सूर्यास्त के पहले वह अपने शरीर का थूक भी नही लील सकते अर्थात उनके शरीर में पानी की एक बूंद भी नही जानी चाहिए इसलिए वह हमेसा थूकते रहते है। और सूर्यास्त के बाद वह लोग दिन का रोजा तोड़ते है अर्थात अच्छे अच्छे पकवान बना कर वह लोग रात में खाते है।

ईद का महत्व

ईद का त्योहार खुशियों का त्योहार माना गया है इसमें चारों तरफ खुशियां ही खुशियां रहती हैं और सजावट भी हमारे पूरे देश में रहती है प्राचीन काल से ही इस त्योहार को मनाते हुए आ रहे हैं लेकिन पहले सिर्फ इस त्यौहार को मुस्लिम धर्म के लोग ही मनाते थे लेकिन अब हमारे पूरे भारत देश में इसे हर को मनाया जाने लगा है हिंदू धर्म के लोग भी अपने मुस्लिम मित्र को ईद की बधाई देते हैं और उनको गले लगा कर एक दूसरे की बरकत की दुआ करते हैं।

यह त्यौहार रमजान के 1 महीने बाद आता है और जितने भी मुस्लिम समुदाय के लोग हैं उन सभी को रमजान में रोजा अर्थात व्रत रखना नितांत आवश्यक है क्योंकि उनका ऐसा मानना है कि इससे उनके अल्लाह प्रसन्न होते हैं यह त्यौहार अपने मजहब के प्रति त्याग और समर्पण को दर्शाता है। ईद का त्यौहार तब मनाया जाता है पहले ईद उल फितर का चांद देखा जाता है अर्थात ईद के 1 दिन पहले चांद को देखकर उसके अगले दिन ईद मनाई जाती है सऊदी अरब में चांद एक दिन पहले ही दिख जाता है इसलिए 2 दिन ईद मनाई जाती है क्योंकि हमारे भारत में 1 दिन बाद चांद दिखाई देता है।

रोजा

ईद के दिन से पहले रमजान का महीना होता है जिसमे सभी मुस्लिम धर्म के लोगो को रोजा अर्थात व्रत रखना जरूरी होता है लेकिन 30 के 30 दिन रोजा रखना जरूरी नही है लेकिन सभी को रखना आवाश्यक है।इसमें लोग एक दिन दो दिन जब चाहे रोजा रख सकते है लेकिन सभी को रखना जरूरी है और जो लोग रोजा रखते है वह दिन में कुछ भी खा और पी नही सकते है। लेकिन सूर्यास्त होने के बाद वह जो भी चाहे वह खा सकते है नमाज पढ़ने के बाद।

Read Also – Navratri Information In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तो अभी मैं आप को बताया eid information in hindi। अगर आप को और कुछ जानना है तो हमे कॉमेंट करे। और यदि आप इसी तरह eid information in hindi के अन्य विषय पर भी जानकारी चाहते है तो हमे कॉमेंट करे और इस पोस्ट को अपने दोस्तो के साथ भी साझा करे।

Leave a Comment