गेटवे ऑफ इंडिया की जानकारी 2022 | Gateway Of India In Hindi

दोस्तो आज मैं आप बताने वाला हु गेटवे ऑफ इंडिया के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है gateway of india in hindi। इसके बारे में हम सभी को जानना बहुत जरूरी है इसलिए मैं आप को इसके बारे में बताऊंगा। बहुत सारे लोग इंडिया गेट और गेटवे ऑफ इंडिया में बहुत कन्फ्यूज होते है इसलिए मैं आज आप को सभी जानकारी दूंगा क्युकी गूगल पर बहुत सारे सर्च करते है जैसे की gateway of india information in hindi , about gateway of india in hindi , gateway of india history in hindi

तो चलिए शुरू करते है।

गेटवे ऑफ इंडिया की जानकारी | gateway of india in hindi | gateway of india information in hindi

गेटवे ऑफ इंडिया की जानकारी 2021 | Gateway Of India In Hindi

गेटवे ऑफ इंडिया हमारे भारत देश के महाराष्ट्र राज्य के दक्षिणी समुद्री तट पर एक स्मारक के रूप में विराजमान है यह देखने में इतना अधिक सुंदर लगता है कि इसे देखने के लिए प्रतिदिन लाखों की भीड़ इकट्ठा होती है और यह देखने के लिए सिर्फ हमारे भारत देश के ही नहीं बल्कि अन्य देशों के भी व्यक्ति यहां पर आते हैं।

इस स्मारक को सन 1911 में बनाया गया था और इसको बनवाने वाला अपोलो बंडर, मुंबई (तब बॉम्बे) में ब्रिटिश सम्राट राजा-सम्राट जॉर्ज पंचम और महारानी मैरी यह दोनों जब पहली बार भारत आ रहे थे तब उनके आगमन के लिए गेटवे ऑफ इंडिया को बनाया गया था।

सन 1911 में बस इसकी शुरुआत की गई थी लेकिन यह स्मारक बन के तैयार नहीं हुई थी और सन 1911 से लेकर सन 1914 तक इस स्मारक के कई सारे डिजाइन बनाकर तैयार किए गए लेकिन एक भी डिजाइन स्वीकार नहीं की गई लेकिन सन 1914 में इसकी आखरी डिजाइन को स्वीकार किया गया और इसका निर्माण शुरू हुआ और इसका निर्माण पूरी तरह से सन 1924 में खत्म हुआ अर्थात सन 1924 में यह पूरी तरह से बनकर तैयार हो गया था।

वर्तमान समय में आप जिस गेटवे ऑफ इंडिया को देखते हैं वह 1914 की आखरी डिजाइन है। इस स्मारक को देखने के लिए विदेश से भी लोग आते हैं और वहां पर सभी पर्यटकों के लिए समुद्र में नाव का सेवा भी उपलब्ध है कई पर्यटक वहां पर नाव पर सवार होकर गेटवे ऑफ इंडिया को चारों तरफ से घूम कर देखते हैं और समुद्र का भी आनंद उठाते हैं।

इस स्मारक की ऊंचाई 25 मीटर है और इस स्मारक को बनाने के लिए लगभग 2 पॉइंट वन मिलियन रुपए का खर्चा हुआ था। गेटवे ऑफ इंडिया को हमारे महाराष्ट्र राज्य के ताजमहल के रूप में भी जाना जाता है कुछ लोग इसे मुंबई का ताजमहल भी कहते हैं।

गेटवे ऑफ इंडिया से आप एलीफेंटा गुफाओं की तरफ जाने का एक प्रमुख केंद्र या मार्ग भी कहा जा सकता है। गेटवे ऑफ इंडिया हमारे भारत देश के हर एक कोने में बहुत ज्यादा प्रसिद्ध है क्योंकि यह हमारे भारत देश के महाराष्ट्र राज्य में स्थित है यह एक ऐसा राज्य है जहां पर सभी लोग आना चाहते है इसलिए यह स्मारक बहुत पसंद है।

गेटवे ऑफ इंडिया पर आपको बहुत सारे ऐसे लोग मिल जाएंगे जो अपनी जीविका चलाने के लिए वहां पर तस्वीरें निकाला करते हैं। गेटवे ऑफ इंडिया के ठीक सामने ही होटल ताज महल है जो हमारे मुंबई राज्य की शान है गेटवे ऑफ इंडिया ही एक ऐसा रास्ता है जिस वजह से इस पर तीन बार आतंकी हमले हो चुके हैं सन 2003 और सन 2008 में होटल ताज महल पर इसी द्वार से आतंकी हमले किए गए।

गेटवे ऑफ इंडिया ब्रिटिश राज के समय निर्मित स्मारक है अर्थात यह ब्रिटिश के राज में बनवाई गई थी और गेटवे ऑफ इंडिया के बनने के बाद स्वामी विवेकानंद और शिवाजी महाराज की प्रतिमाएं स्थापित की गई।

गेटवे ऑफ इंडिया अरब सागर के तरफ बना हुआ है जो मुंबई के मरीन लाइन रोड से मिला हुआ है यहां पर मेलजोल का बहुत ही उत्तम स्थान है अर्थात हम इसे मेलजोल का स्थान भी कर सकते हैं क्योंकि कई लोग यहां पर प्रतिदिन एक दूसरे के साथ समय व्यतीत करने के लिए आते हैं।

गेटवे ऑफ इंडिया जाने के लिए आप बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं यदि आप अन्य राज्य से हैं तो आप सर्वप्रथम महाराष्ट्र राज्य में आइए उसके बाद यहां से टैक्सी या बस करके इस स्थान तक पहुंच सकते हैं और यद्यपि आप महाराष्ट्र राज्य में रहते हैं तो आप बहुत ही आसानी से साथ लोकल ट्रेन अथवा टैक्सी या बस के जरिए गेटवे ऑफ इंडिया तक पहुंच सकते हैं।

गेटवे ऑफ इंडिया वर्तमान समय में एक पब्लिक प्रॉपर्टी के रूप में मौजूद है जिसका दरवाजा हमेशा हर व्यक्ति के लिए खुला हुआ रहता है किसी भी धर्म जात एवं किसी भी देश का व्यक्ति यहां पर आ सकता है और यहां की सभी संपत्तियों का इस्तेमाल कर सकता है और यहां पर घूमने फिरने की पूरी स्वतंत्रता दी गई है।

बहुत सारे लोग जिनको एलीफेंटा गुफाओं की तरफ जाना होता है वह सभी सर्वप्रथम गेटवे ऑफ इंडिया के पास आते हैं क्योंकि वह एक केंद्र मार्ग है एलिफेंटा गुफा तक जाने का इस वजह से गेटवे ऑफ इंडिया पर प्रतिदिन लाखों में लोग आते हैं और इस स्थान का पूरा लाभ उठाते हैं।

वर्तमान समय में जिस स्थान पर गेटवे ऑफ इंडिया बना है वहां पर पहले महाराष्ट्र के लोगों द्वारा मछली पकड़ी जाती थी और जो व्यक्ति महाराष्ट्र आते थे वह नाम से इसी स्थान पर उतरते थे लेकिन अब इस स्थान को गेटवे ऑफ इंडिया बनाकर एक बहुत ही प्रसिद्ध स्थल बना दिया गया है।

समुद्री तट पर बने होने की वजह से हर 1 सेकंड बाद इस स्मारक को छूने वाली एक ऊंची लहर उठती है जो देखने में बहुत अद्भुत रखती है और यहां पर आपको बहुत सारे कबूतर भी देखने मिल जाते हैं यदि आप इन कबूतरों और उठती लहरों के साथ तस्वीरें निकालते हैं तो यह एक बहुत ही यादगार पल बन जाता है।

Read Also – Golden Temple In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया gateway of india in hindi। अगर आपको यह पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आप चाहते हैं कि हम इसी तरह के gateway of india in hindi अन्य विषय पर भी आपको जानकारी दे तो आप उसके लिए हमें कमेंट कर सकते हैं हम आप के विषय पर अवश्य आपको जानकारी देंगे।

Leave a Comment