Sunday, January 29, 2023

हर्षद मेहता के बारे में जानकारी 2021 | Harshad mehta biography in hindi

दोस्तो आज मै आप को हर्षद मेहता के बारे में इस ब्लॉग में बताऊंगा क्युकी आज का हमारा विषय है harshad mehta biography in hindi। हर्षद मेहता का नाम तो हम सभी ने सुना है लेकिन हमको उनके जीवन के बारे में संपूर्ण जानकारी नहीं जिस वजह से गुगल पर प्रतिदिन इस तरह से सर्च होते है जैसे की biography of harshad mehta in hindi , harshad mehta in hindi इसलिए मैं आज आपको इनके बारे में बताऊंगा।

तो चलिए शुरू करते हैं।

हर्षद मेहता के बारे में जानकारी | Harshad mehta biography in hindi | biography of harshad mehta in hindi

INFOGYANS

हर्षद मेहता का जन्म 29 जुलाई 1954 में गुजरात के राजकोट शहर में एक छोटे से बिजनेसमैन के समाज में उनका जन्म हुआ लेकिन इनका बचपन महाराष्ट्र के मुंबई राजधानी के कांदिवली शहर में गुजरा तत्पश्चात इनका पूरा परिवार रायपुर के मौदहापारा गुरुनानक चौक में आकर रहने लगे। इनके माता का नाम रसीला बेन मेहता तथा उनके पिता का नाम शांतिलाल मेहता है इनके तीन भाई और है जिनका नाम अश्विन मेहता हितेश मेहता तथा सुधीर मेहता है। इनके पिता एक व्यापारी थे उन्होंने मुंबई कांदिवली में अपना एक व्यापार शुरू किया था लेकिन वह उसमें सफल ना हो सके तत्पश्चात उन्होंने अपना कारोबार मध्यप्रदेश में शुरू किया इनकी माता गृहणी थी।

और इनकी प्रारंभिक शिक्षा रायपुर के होली क्रॉस बैरन बाजार सेकेंडरी स्कूल हुई हर्षद मेहता जब अपना कक्षा 12वीं की पढ़ाई पूरी कर लिए तब वह मुंबई शहर के लाजपत राय कॉलेज से बीकॉम में स्नातक डिग्री प्राप्त करने की लिए पढ़ाई करी। और जब वह डिग्री पास कर लिए तब उन्होंने अपनी पहली नौकरी न्यू इंडिया एसोसिएशन कंपनी लिमिटेड में एक सेल्स पर्सन के स्वरूप कार्य किया उस समय कार्य करते समय ही इनका इंटरेस्ट शेयर मार्केट की तरफ बढ़ने लगा।

इसी वजह से उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ कर परिजीवन दास नेमीदास सिक्योरिटीज नाम के ब्रोकरेज फर्म के तौर पर ना करें करना शुरू किए और परी जीवनदास को अपना गुरु मानकर उन्होंने स्टॉक मार्केट के हर पैंतरे को सिखा।और उसके पश्चात उन्होंने सन 1984 में स्वयं की एक ग्रोमोर रिसर्च एंड असेट मैनेजमेंट नाम की कंपनी की शुरुआत की और मुंबई स्टॉक एक्सचेंज में ब्रोकर मेंबरशिप प्राप्त करें और यहीं से इनके स्टॉक मार्केट का बादशाह बनने का सफर शुरू हुआ। इनका ऐसा मानना था कि शेयर मार्केट एक ऐसा युवा है जो पूरी दुनिया भर का प्यास बुझा सकता है।

हर्षद मेहता को शेयर मार्केट का बादशाह तथा द बिगबुल के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि क्या बहुत ही कम समय में शेयर मार्केट से बहुत अधिक पैसा कमाया है और इनके द्वारा बताए गए शेयर तो खरीद कर अन्य लोग भी शेयर मार्केट से बहुत पैसा कमाया है।

हर्षद मेहता के पिता एक छोटे व्यापारी थे और यह मध्यम वर्ग से संबद्ध रखते हैं। हर्षद मेहता बहुत ही कम समय में बहुत ही अधिक कामयाब और पैसा कमाने वाले व्यक्ति बन गए थे जिस वजह से सभी लोग उनके इस कामयाबी का राज जानना चाहते थे हर्षद मेहता बैंकों को नकली रसीद देखकर उन सब से पैसा लेता था और उसको शेयर मार्केट में लगा देता था इन सब का पर्दाफाश उसका सन 1992 में हुआ।

जब उस समय के एक पत्रकार ने यह बताया कि उनके ऊपर 72 अपराधिक मामले तथा 600 से अधिक दीवानी मामले दर्ज Harshad Mehta उन सभी मामलों में खुद को बेकसूर साबित कर दिया और उनके खिलाफ एक भी सबूत न मिलने की वजह से हर्षद मेहता निर्दोष साबित हो गए लेकिन एक केस में उनको सजा हुई सन 2001 में उन को 5 साल की सजा तथा ₹25000 का जुर्माना भरने को कहा गया उन्होंने बैंक का कुल 4025 करोड़ रुपए का घोटाला किया था इसका पता तब चला जब आरबीआई ने अपनी रिपोर्ट दी।

Harshad Mehta के महंगी गाड़ियों के शौक था 15500 स्क्वायर फीट का सी फेसिंग पेंटहाउस लेने की वजह से लोगों के मन में कई सारे सवाल उठने लगे कि एक छोटा सा ब्रोकर लगातार इतने सारे पैसे कहां से कम आ रहा है और इसी वजह से हर्षद मेहता के सभी कांडों का पर्दाफाश होने लगा वह 15 दिन के लिए बैंक से लोन लेता था।

Harshad Mehta की पत्नी का नाम ज्योति मेहता है । इन दंपति को एक पुत्र की प्राप्ति हुई जिसका नाम इन्होंने अतुर मेहता रखा उस समय के प्रधानमंत्री पी वी नरसिम्हा राव पर भी आरोप लगाए गए लेकिन उन्होंने उन सब को मानने के लिए इंकार कर दिया। हर्षद मेहता जब जेल में थे तब उनको 31 दिसंबर 2001 में रात में दिल का दौरा होने की आशंका जताई थी क्योंकि उनके सीने में अचानक दर्द उठा और उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया वहां पर उनकी मौत हो गई इसकी वजह दिल का दौरा बताया गया।

जब उनके घोटाले के बारे में पता चला और उन पर कार्यवाही उसके 25 वर्ष बाद भी उनके परिवार से उनके द्वारा किए गए घोटाले की रकम जमा करवाइए हर्षद मेहता की संपत्ति को बेच कर ₹6000 से अधिक की राशि बैंक व आयकर विभाग के नाम करी गई और इस तरह उनके परिवार ने सन 2017 में बैंकों की रकम जमा की।

अगर अब कभी पर घोटाले एवं बैंक घोटाले का बाद शुरू होता है तब वहां पर हर्षद मेहता का नाम अवश्य आता है क्योंकि यह सबसे बड़ा घोटाला किया गया था तत्पश्चात इतना बड़ा घोटाला किसी के द्वारा नहीं किया गया। हर्षद मेहता द्वारा किए गए इस कांड को इतिहास में दर्ज कर दिया गया और यह एक ऐतिहासिक घोटाला के रूप में जाना जाने लगा।

हर्षद मेहता के ऊपर एक वेब सीरीज भी बनाई गई है जिसमें उनके पूरे जीवन में किए गए कार्यों के बारे में दर्शाया गया है उस वेब सीरीज का नाम है स्कैम 1992 हर्षद मेहता स्टोरी । इनके इस घोटाले पर बनाई गई इस वेबसाइट को लोगों द्वारा बेहद पसंद किया गया और यह वेब सीरीज बहुत ही ज्यादा हिट रही यह वेब सीरीज के निर्माता हंसल मेहता जी है। इस वेब सीरीज के कई सारे डायलॉग बहुत अधिक है प्रसिद्ध रहे।

Read Also – Biography of kiran bedi in hindi

निष्कर्ष

दोस्तों मैंने आपको ब्लॉग में लिखकर बताया harshad mehta biography in hindi। अगर आपको इनके बारे में जानकर अच्छा लगा तो आपसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यद्यपि आता कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट में हम आपके सवाल का जवाब जरूर देंगे।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,687FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles