एडोल्फ हिटलर के बारे में जानकारी 2021 | Hitler biography in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने वाले हैं हिटलर के बारे में अर्थात आज का हमारे विषय है hitler biography in hindi। हिटलर का नाम तो हम सभी ने सुना है लेकिन उनके बारे में संपूर्ण जानकारी किसी को भी नहीं है जिस वजह से गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते रहते हैं जैसे कि adolf hitler biography in hindi , biography of hitler in hindi इसलिए मैं आज आप को उन के बारे में बताने वाला।

तो चलिए शुरू करते हैं

एडोल्फ हिटलर के बारे में जानकारी | Hitler biography in hindi | adolf hitler biography in hindi

Hitler biography in hindi

हिटलर का जन्म 20 अप्रैल 1889 को ऑस्ट्रिया के वान नामक स्थान पर हुआ था। इनके पिता का नाम एलोइस था तथा इनकी माता का नाम क्लारा था। हिटलर ने अपने प्रारंभिक शिक्षा लिंज नामक स्थान से करी थी इनकी आयु 17 वर्ष की थी तब इनके पिता का देहांत हो गया और तब वे विनया चले गए। हिटलर ने अपने जीवन का निर्वाह करने के लिए पोस्ट कार्डों पर चित्र बनाना शुरू किया और जब प्रथम विश्वयुद्ध आरंभ हुआ तब हिटलर सेना में भर्ती हुए और उन्होंने फ्रांस में कई लड़ाई यों में भाग लिया।

सन 1918 में हुआ युद्ध के दौरान घायल हो गए और हॉस्पिटल में भर्ती कराए गए तब जर्मनी की पराजय का उन्हें बहुत दुख हुआ। उसी वर्ष अर्थात सन 1918 में उन्होंने नाजी दल की स्थापना की जिसमें वह उन्हीं व्यक्तियों को शामिल करते थे जिन्हें में देश प्रेम कूट-कूट के भरा हुआ रहता था। एक समय ऐसा आया जब नाजी दल को आर्थिक स्थितियों का सामना करना पड़ा तब हिटलर ने अपने ओजस्वी भाषणों से उसे ठीक करने का आश्वासन किया तब उस दौरान जर्मन इस दल के सदस्य हुए।

हिटलर सन 1922 में एक प्रभावशाली व्यक्ति बन चुके थे और उन्होंने अपने दल का स्वास्तिक रखा था जो हिंदू धर्म का सबसे सुप्रतीक माना जाता है और वह अपने दल के सिद्धांतों का प्रचार समाचार पत्र द्वारा जनता में किया और भूरे रंग की पोशाक पहने सैनिकों की टुकड़ी तैयार की गई। हिटलर ने सन 1923 में जर्मन सरकार को उखाड़ने का प्रयत्न किया जिसमें वह असफल रहे और इस वजह से उनको जेल में डाल दिया गया।

कारावास में उन्होंने मेरा संघर्ष नाम की एक आत्मकथा लिखिए उस कथा में उन्होंने नाजी दल के सिद्धांतों का विवेचन किया। सन 1930 से लेकर 32 तक जर्मनी में बहुत सारे लोग बेरोजगार हो गए वहां पर बेरोजगारी बहुत तेजी से बढ़ गई उस दौरान नाजी दल के सदस्यों की संख्या 230 हो गई सन 1932 में हिटलर राष्ट्रपति के चुनाव के लिए खड़े हुए लेकिन उसमें उनको सफलता नहीं मिली जर्मनी की आर्थिक दशा और बिगड़ती गई और विजय देशों ने अपने सैनिक शक्ति बढ़ाने की अनुमति की जिस वजह से विरोधी राष्ट्रों में सैनिकों की तादाद बढ़ती गई।

हिटलर को सन 1934 में सर्वोच्च न्यायाधीश घोषित कर दिया गया और इस वर्ष इनको राष्ट्रपति के पद पर बैठने का मौका मिला क्योंकि हिंडोन वर्ग की मृत्यु के बाद यह वहां के राष्ट्रपति बने तब तक नाजी दल का आतंक जनजीवन के प्रत्येक क्षेत्रों में पूरी तरह से छा चुका था और हिटलर की एक सबसे बड़ा सफलता था।

हिटलर सन 1933 से लेकर 1938 तक लाखों यहूदियों को मार डाला था। सन 1933 मैं हिटलर ने राष्ट्र संघ को छोड़ दिया और उन्होंने जर्मनी के सहनशक्ति को बढ़ाना शुरू कर दिया क्योंकि वह भावी युद्ध को ध्यान में रखा था। हिटलर ने जर्मनी के तानाशाह हिटलर ने आरंभ किया उसका ऐसा मानना था कि जर्मनी के लोग सर्वश्रेष्ठ हैं जिस वजह से उनको पूरे विश्व में राज करने का अधिकार है कारणवश विश्व में द्वितीय विश्व युद्ध आरंभ हुआ 14 में हिटलर को मारने के बाद नाजीवाद का अंत हो गया परंतु नाजीवाद और हिटलर होना मानवी क्रूरता के बनकर आजभी भटक रहा है।

नाजियों ने लोगों में ऐसी अंधश्रद्धा उत्पन्न कर दी थी कि जिन लोगों को लड़ना नहीं आता या वह लड़ना नहीं चाहते उन सभी को इस दुनिया में जीवित रहने का कोई भी अधिकार नहीं है

प्रथम विश्व युद्ध के दौरान गैस अटैक हुआ था उस समय एक लड़की मुझे बहुत बड़ी थी और गैस से बचने के लिए हिटलर ने अपने मुंह पर मास्क लगाया था वह मासूम मूछों में फस जाने की वजह से हिटलर को उसे उतारने में काफी समस्याएं हुई जिस वजह से अपने दोनों साइड की मूछों को कटवा कर छोटा करवा दिया और फिर बीच में मुझे रखा।

हिटलर का दल पूरे साम्राज्य में आतंक मचा रखा था लेकिन हिटलर खुद एक बहुत बड़ा डरपोक था क्योंकि वह दिल्ली से देखकर डरता था साथ ही यदि वह किसी व्यक्ति के हाथ में ब्लेड देख ले तब और डर जाता था और वह बाल बनाने का साधारण बनवाने वालों से भी डरता था उसका ऐसा मानना था कि वह उनकी जान लेने चाहते हैं जिस वजह से वह खुद ही दाढ़ी और बाल बनाता था।

ऐसा भी कहा जाता है कि हिटलर को अंधेरे से भी बहुत ज्यादा डर लगता था जिस वजह से वह रात में सोने की वजह सुबह 4:00 से 5:00 बजे सोता था और वह सुबह 11:00 बजे सोकर उठा था और वह जब सोने जाता था तब वह अपने काम करने वाली लोगों से बिस्तर देखने को कहता था क्योंकि वह अनजान चीजों से भी डरता था।

हिटलर का ड्रीम प्रोजेक्ट बाल्टिक सागर में रुगेन पर एक होटल है यह दुनिया का सबसे बड़ा होटल इस होटल में 10000 बेडरूम हैं जिनका मुख्य समुद्र की ओर है और यह 80 साल पहले बना था लेकिन यह होटल जब से बना हुआ है तब से लेकर आज तक खाली पड़ा है। इस होटल का नाम प्रोरा हैं। हिटलर एक बहुत ही क्रूर इंसान था वह लोगों को मारने से कभी भी पीछे नहीं हटता था जिस वजह से हिटलर एक आतंकी के रुप में था।
हिटलर की मृत्यु 30 अप्रैल 1945 को हुई थी।

 

Read Also – Saina nehwal biography in hindi

 

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया Hitler biography in hindi। अगर आप इनके बारे में जानकर अच्छा लगा हो या आपका कोई सवाल हो तो आप उसके लिए हमें कमेंट कर सकते हैं हम आपके द्वारा पूछे गए सवाल का अवश्य जवाब देंगे और आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें ताकि उनको भी हिटलर के बारे में पता चले।

Leave a Comment