भारतीय राजनीतिक व्यवस्था | Indian Political System In hindi 2022

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था, लोकतान्त्रिक व्यवस्था क्या है , कार्यपालिका , न्यायपालिका ,पॉलिटिकल सिस्टम, लोकतंत्र के आधार स्तम्भ, Indian Political System In hindi, Pillars of Democracy  2022

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था | Indian Political System In hindi

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था Indian Political System In hindi : दुनियाँ में कई तरह की राजनैतिक व्यवस्था है। जिसमे communism,monarchic,dictatorship,Republic आदि शामिल है पर बात करे भारत की तो हमारा देश डेमोक्रेसी Democracy को फॉलो करता है क्युकी किसी भी देश में अगर डेमोक्रेसी है।

तो उस देश के नागरिक और सरकार दोनों के द्वारा देश चलता है। अगर वास्तव में देखा गए तो ये राजनैतिक व्यवस्था सब से अच्छी मानी जाती है। इस बात पुष्टि करने के लिए आप किसी भी विकसित देख की राजनैतिक व्यवस्था देख सकते है। बात करे अमेरिका की तो ये पूरी दुनियाँ की सब से बड़ी ताकत है ” भारतीय राजनीतिक व्यवस्था ।

और सब से पुरानी लोकतान्त्रिक व्यवस्था भी है। इसके बाद भारत का स्थान है ।क्योकि भारत की  आबादी विश्व के सब से आबादी वाले देशो में दूसरे स्थान पर है इसलिए यह दूसरी सब से बड़ी लोकतान्त्रिक व्यवस्था भी है।

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था | Indian Political System In hindi

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था (Indian Political System In hindi)

लोकतान्त्रिक व्यवस्था क्या है ? What is Democracy ?

जैसा की आप सब जानते है की भारत 1947 में आज़ाद हुआ और 1950 में हमारे देश का संविधान लिखा गया और हुआ। इस में वो सारे सविधान है जिस को आधार मान कर हमारा देश चलता है लोकतंत्र (Democracy ) का शाब्दिक अर्थ है “लोगो का शासन“ जो की संस्कृत के दो शब्दों “लोक” अर्थ लोगो से है और “तंत्र ” अर्थ है शासन।

लोकतंत्र में लोगो के द्वारा एक ऐसे नेता को चुना जाता है जो देश चलाने योग्य हो और जनता के काम करे। क्योकि जनता चुनावो में अपने मत दे कर नेता चुनते है और जिस नेता को सब से ज्यादा मत मिलते है वो जनता का प्रतिनिधित्व करते हुए सरकार चलाता है इसलिए इस व्यवस्था को लोकतान्त्रिक व्यवस्था के नाम से जाना जाता है ‘ भारतीय राजनीतिक व्यवस्था ‘।

और पढ़े : लाल बहादुर शास्त्री के बारे में जानकारी 

Indian Political System In hindi

Pillars of Democracy लोकतंत्र के आधार स्तम्भ

ये तो आप ने समझ ही लिया की लोकतंत्र या प्रजातंत्र क्या है। पर ये कैसे चलता है इसके लिए कौन से अधहार रखे गए है। आइये अब इस बारे में बात करते है।

लोकतंत्र के चार आधार स्तम्भ है।

  • विधायिका Legislature
  • कार्यपालिका Executive
  • न्याय पालिका Judiciary
  • पत्रकारिता Media

विधायिका Legislature (राज्य सभा तथा लोक सभा

विधायिका में दो सदन आते है। जिसे हम राज्य सभा Upper House और लोक सभा Lower House के नाम से जानते है। लोक सभा के सदस्य जनता द्वारा चुने जाते है। था राज्य सभा के सदयो का चुनाव राज्य विधान सभा के निर्वाचित सदस्यों द्वारा किया जाता है। लोक सभा के सदस्यों की संख्या 552 होती है और राज्य सभा के सदस्यों की संख्या 250 होती है।

और पढ़े : Online animation degree

कार्यपालिका Executive (Prime Minister & Council of Ministers )

ये पालिका देश को चालने में सब से ज्यादा बड़ा किरदार निभाती है। जिसमे प्रधानमत्री और मंत्रीमंडल शामिल होता है। ये पालिका की सारी नीतियाँ,विकास के लिए उठाये जाने वाले कदम और अन्य सभी चीज़े तय करती है। इस पालिका में देश के रक्षा मंत्री,गृह मंत्री,वित्तमंत्री,शिक्षामंत्री आदि शामिल होते होते है। हर मंत्री को एक अलग मंत्रालय के सारे निर्णय लेने का अधिकार दिया जाता है।

न्यायपालिका Judiciary (Supreme Court,High Court Court )

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था भारत में न्याय व्यवस्था को चलाने लिए न्यायपालिका का गठन किया गया जिसमे तीन पालिकाएं आती है। देश की सब से बड़ी न्याय पालिका supreme court सर्वोच्च न्यायालय है उसके बाद High Court उच्च न्यायालय तथा Distic Court जिला न्यायालय आते है।

Distic Court : हर जिले का एक जिला न्यायालय होता है। जो की अपने जिले में न्याय व्यवस्था देखने के लिए उत्तरदायी होता है। यदि कोई व्यक्ति जिला न्यायालय के फैसले को नहीं सही मानता तो वो हाई कोर्ट में न्याय के लिए अपील करता है।

इंडियन पॉलिटिकल सिस्टम इन हिंदी

High Court उच्च न्यायालय : हर राज्य का अपना एक उच्च न्यायालय होता है। जो की सभी जिलों के न्यायालयों के मुकदमों का फैसला करता है। अगर कोई इस न्यायालय से मिले फैसले से भी संतुष्ट नहीं हो तो वो सर्वोच्च न्यायालय में अपील कर सकता है।

Supreme Court सर्वोच्च न्यायालय: देश की सब से बड़ी बड़ी न्याय व्यवस्था या पालिका सर्वोच्च न्यायालय है। इस न्यायालय का फैसला अंतिम और सर्वमान्य होता है। ( भारतीय राजनीतिक व्यवस्था )।

भारतीय राजनीतिक प्रणाली

Media पत्रकारिता :

देश के लोकतंत्र आवाज़ मीडिया है। ये एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा देश में हो रहे हर कार्य की जानकारी लोगो को हो जाती है। इसमें प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया शामिल है प्रिंट मीडिया में अख़बार,मैगज़ीन्स और अन्य माध्यम जिसके द्वारा जनता की आवाज़ या नेताओं की बाते जनता तक लिखित माध्यम से पहुचायी जाती है।

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में टेलीविज़न शामिल है। जिस से न्यूज़ चैनल देश में हो रहीं घटनाये,सर्कार के द्वारा बनायीं गयी नीतियाँ और समाज में हो रहे हर काम को दिखते है। जिस से आम जनता को ये पता चलता है। की सरकार का शासन कैसा चल रहा है और सरकार को पता चलता है। की देश उनके शासन में खुश है। या नहीं इन दोनों मीडिया के अल्वा भी एक मीडिया बड़ी तेज़ी से लोगो की आवाज़ बनती जा रही है। जिसका नाम Social Media है। भारतीय राजनीतिक व्यवस्था।

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में बताया भारतीय राजनीतिक व्यवस्था Indian Political System In hindi। अगर आपको यह पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आपका कोई सवाल है तो आप हमसे पूछ सकते हैं।

Leave a Comment