महात्मा गांधी के बारे में जानकारी 2021 | Information About Mahatma Gandhi In Hindi

दोस्तों आज मैं आपको एक बहुत ही महान व्यक्ति के बारे में बताने वाला हूं जिनका नाम महात्मा गांधी है अर्थात आज का हमारा विषय है information about mahatma gandhi in hindi। महात्मा गांधी के बारे में हम सभी जानते हैं लेकिन आज मैं आप को उनके बारे में बताना चाहता हूं क्योंकि गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते हैं जैसे कि information about mahatma gandhi in hindi language , information about mahatma gandhi in hindi wikipedia

तो चलिए शुरू करते हैं।

महात्मा गांधी के बारे में जानकारी | Information About Mahatma Gandhi In Hindi | information about mahatma gandhi in hindi language

महात्मा गांधी के बारे में जानकारी 2021 | Information About Mahatma Gandhi In Hindi

महात्मा गांधी एक बहुत ही प्रसिद्ध व्यक्ति हैं जिन्होंने हमेशा अहिंसा के मार्ग पर चलने के लिए लोगों को प्रेरित किया और खुद भी अहिंसा के मार्ग पर ही चलते थे। उनका जीवन बहुत ही साधारण और सिंपल था वह उदार हृदय के व्यक्ति थे वह हमेशा ही दूसरों की भलाई के लिए कार्य किए हैं।

महात्मा गांधी हमारे राष्ट्रपिता के नाम से भी प्रसिद्ध है और लोग हम उनको प्यार से बापू बुलाते हैं भगवान के जन्म दिवस पर पूरे भारत में छुट्टी होती है ताकि लोग उनको याद कर सके और उनके कार्यों पर नजर डालें। महात्मा गांधी अपने पूरे जीवन काल में कभी भी हिंसा और बुराई नहीं की जिस वजह से लोग उनकी राहों पर चलना पसंद करते हैं।

महात्मा गांधी जी को लोग तरह-तरह के नाम से जानते थे लेकिन उनका पूरा नाम मोहन दास करम चंद्र गांधी था उनके पिता का नाम करम चंद्र गांधी था और उनकी माता का नाम पुतलीबाई था। पुतलीबाई करम चंद्र गांधी की चौथी पत्नी थी जिनसे महात्मा गांधी पैदा हुए। करम चंद्र गांधी की पहले की 3 पत्नियां प्रसव के दौरान उनकी मृत्यु हो गई थी।

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1861 में हमारे पश्चिम भारत के गुजरात राज्य के पोरबंदर नामक शहर में हुआ था। महात्मा गांधी के पिताजी ब्रिटिश राज्य में काठियावाड़ एक छोटी सी रियासत के दीवान थे और उनकी माता एक बहुत ही धार्मिक और उदार विधायक की महिला थी वह अपना ज्यादा समय भगवान की पूजा अर्चना में व्यतीत करती थी जिस वजह से महात्मा गांधी के मन पर यह बात बहुत प्रभावशाली और उनके मन में भी लोगों के प्रति प्रेम सद्भावना उत्पन्न होने लगा महात्मा गांधी के जीवन पर उनकी माता का बहुत अधिक प्रभाव पड़ा।

महात्मा गांधी जी का विवाह बहुत ही कम आयु में हो गया था मई 1883 में इनकी शादी हो गई थी लेकिन तब महात्मा गांधी 13 वर्ष की आयु के थे और इनकी पत्नी इन से 1 वर्ष बड़े अर्थात 14 वर्ष की थी। उनकी पत्नी का नाम कस्तूरबाई मकनजी था। इनका नाम इतना बड़ा हो जाने की वजह से लोग इनको कस्तूरबा बाई नाम से जानने लगे। इनका नाम कस्तूरबा होने के बावजूद भी लोग इनको प्यार से बा के नाम से बुलाते थे महात्मा गांधी जी की शादी उनके माता-पिता द्वारा तय की गई थी और यह एक बाल विवाह था क्योंकि बाल विवाह उस समय बहुत ज्यादा प्रचलित था।

महात्मा गांधी जब 15 वर्ष के थे अर्थात सन 1885 में उनकी पहली संतान ने जन्म लिया लेकिन किसी कारण बस वह कुछ ही दिन तक जीवित रहे उसके पश्चात उसकी मृत्यु हो गई और इसी वर्ष महात्मा गांधी के पिताजी करमचंद गांधी जी का भी निधन हो गया। महात्मा गांधी की चार संताने थी उनका नाम हरिलाल मणिलाल रामदास और देवदास था हरिलाल का जन्म 1888 में हुआ था मणिलाल का जन्म 1892 में हुआ था रामदास का जन्म 1897 में हुआ था और देवदास का जन्म सन उन्नीस सौ में हुआ था।

महात्मा गांधी ने अपनी मिडिल क्लास की पढ़ाई पोरबंदर में की थी और अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई उन्होंने राजकोट से की थी। महात्मा गांधी का परिवार उन्हें बैरिस्टर बनाना चाहता था जिस वजह से महात्मा गांधी या प्रश्न भी रहते थे लेकिन वह अपने 19 वे जन्मदिवस के पहले अर्थात 4 सितंबर 1888 में बैरिस्टर की पढ़ाई करने के लिए अपना देश भारत छोड़कर इंग्लैंड चले गए।

महात्मा गांधी शाही राजधानी लंदन जाने के बाद शाकाहारी भोजन ग्रहण करने का निश्चय किया था और इस बात के लिए उनकी माता के विचार उनके ऊपर बहुत प्रभाव डाल रहे थे वह लंदन में जिनके घर पर रहते थे वह वह मकान मालकिन द्वारा पत्ता गोभी और मांस नहीं हजम कर पाते थे इसलिए उन्होंने शाकाहारी भोजन ग्रहण करने का प्रण लिया और उन्होंने कुछ ऐसे लोगों से मिले जो मांसाहारी नहीं शाकाहारी दिन को शाकाहारी भोजन खाना पसंद था और धीरे-धीरे यह संगठन बढ़ने लगा।

महात्मा गांधी हफ्ते में एक दिन बिना बोले रहते थे अर्थात मौन व्रत रखा करते थे उनका ऐसा मानना था कि ऐसा करने से उनके पेट के म्युनिटी अर्थात पाचन शक्ति बहुत अच्छी होती है और इससे उनका शरीर कई तरह की बीमारियों से बच जाता है और हिस्ट पुष्ट रहने में उनको यह मदद करता है।

महात्मा गांधी ने हमारे देश को आजाद कराने के लिए कई तरह के आंदोलन किए और अंग्रेजों का विद्रोह करते हुए वह कई बार जेल में भी गए हैं और उनके साथ उनकी पत्नी कस्तूरबा भी जेल में गई है। कई तरह के आंदोलन और विद्रोह किए गए उनमें से कुछ बहुत ज्यादा प्रसिद्ध हो गए जैसे नमक दांडी यात्रा। भारत छोड़ो आंदोलन इत्यादि अन्य कई आंदोलनों में महात्मा गांधी ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और हमारे देश को आजाद करने के लिए हमेशा तत्पर रहें।

1916 में महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत लौट आए थे और उन्होंने हमारे देश को आजाद करने के लिए कदम उठाना शुरू कर दिया तो सन 1920 में कांग्रेस के लीडर बाल गंगाधर तिलक की मृत्यु के बाद कांग्रेस के मार्गदर्शक बने महात्मा गांधी जी।

महात्मा गांधीजी का साबरमती आश्रम बहुत ज्यादा प्रसिद्ध था क्योंकि वहां पर लोगों को लोगों से प्रेम सद्भावना करना सिखाया जाता था महात्मा गांधी कभी भी किसी भी व्यक्ति को किसी भी तरह की हानि एवं नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते थे एक बहुत ही उदार दिल के व्यक्ति थे वह हमेशा सबकी मदद करने के लिए तत्पर रहते थे उनसे जितना कार्य हो सकता था वह बहुत से लोगों की मदद किया करते थे।

Read Also – Rabindranath Tagore Information In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया information about mahatma gandhi in hindi।अगर आपको यह विषय पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आप हमसे किसी भी तरह के सवाल पूछना चाहते हैं तो उसके लिए आप हमें कमेंट कर सकते हैं हम आपके द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब अवश्य देंगे।

Leave a Comment