Saturday, January 28, 2023

गुलाब फूल के बारे में जानकारी 2021 | Information About Rose Flower In Hindi

दोस्तो आज मैं आप को बताने वाला हु गुलाब के फूल की जानकारी अर्थात आज का हमारा विषय है information about rose flower in hindi। इसके बारे में बहुत सारे लोगों को पता है लेकिन पूरी जानकारी किसी को नही होगा इसलिए मैं आप को gulab ka phool in hindi के बारे में बताऊंगा। मेरा विषय आज का बहुत महत्त्वपूर्ण है क्युकी पूरी जानकारी आप को इस ब्लॉग में मिल जाएगी।

तो चलिए शुरू करते है information about rose in hindi

गुलाब फूल के बारे में जानकारी | information about rose flower in hindi | information about rose in hindi

गुलाब फूल के बारे में जानकारी | Information About Rose Flower In Hindi

हम सभी ने गुलाब के फूल को देखा है इसलिए हमे यह पता है की यह फूल कितना सुंदर होता है। इस फूल की सुंदरता हम सभी ने देखी है। गुलाब के फूल हमें कई रंगों में मिल जाते हैं और इनके पूरे तने पर कांटे ही कांटे होते हैं जिस वजह से इस पौधे के तने को पकड़ना बहुत मुश्किल होता है।

गुलाब का फूल हमारे भारत देश में बहुत ज्यादा प्रचलित है खास करके लाल और मेहरून कलर का गुलाब हमारे भारत देश में बहुत ज्यादा प्रचलित है। इस रंग के गुलाब का इस्तेमाल प्रेमी या प्रेमिका अपने पार्टनर को देते हैं क्योंकि यह प्यार का प्रतीक माना जाता है।

गुलाब का फूल कई रंगों में आता है सफेद पीला और लाल इसके मुख्य कलर हैं सफेद रंग के गुलाब का इस्तेमाल माफी मांगने या शांति के लिए दिया जाता है यह प्रतीक माना जाता है।

पीले रंग के गुलाब का इस्तेमाल दोस्ती करने के लिए इस्तेमाल होता है पीले रंग का यह गुलाब दोस्ती का प्रतीक है और लाल रंग के गुलाब का इस्तेमाल प्यार का इजहार करने के लिए किया जाता है अर्थात इस फूल को प्यार का प्रतीक माना जाता है

इस फूल में भी कई प्रजातियां पाई जाती है यह अपने प्रजाति के अनुसार ही बढ़ते हैं अर्थात इनकी ऊंचाई इनके प्रजाति के ऊपर निर्भर करती है।

गुलाब के फूल की सामान्य ऊंचाई 3 से 4 फीट की होती है इससे अधिक किया इससे कम गुलाब के फूल की ऊंचाई उनके प्रजाति पर निर्भर करती है। गुलाब के पौधे में अत्यंत कांटे होते हैं लेकिन फिर भी लोग इस पौधे को बहुत ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि इसका फूल लोगों को बहुत पसंद आता है लोग इस फूल की तरफ मनमोहित हो जाते हैं।

गुलाब के पौधे का इस्तेमाल बाग बगीचे के सजावट के लिए किया जाता है क्योंकि यह पौधे बाग बगीचे की सुंदरता को और भी अधिक बढ़ा देते हैं। गुलाब के फूल में एक बहुत ही मधुर गंध होती है जिसको सूंघ कर लोग उसकी तरफ खींचे चले आते हैं।

गुलाब के फूल की मांग मेरे भारत देश में अत्यधिक है जब हमारे देश किसी को सम्मान दिया जाता है तब उसे गुलाब के फूल का बना गुलदस्ता दिया जाता है इस फूल की मांग हमारे भारत देश में वैलेंटाइन डे के दिन अधिक होती है क्योंकि इस दिन सभी प्रेमी अपनी प्रेमिका को गुलाब का फूल देते हैं।

वर्तमान समय में शादी विवाह की सजावट के लिए भी गुलाब के फूल का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि गुलाब के फूल से आने वाली खुशबू लोगों को बहुत ज्यादा पसंद आती है और यह दिखने में भी अत्यंत सुंदर होते हैं जिस वजह से शादी विवाह में गुलाब के फूल की सजावट की जाती है।

गुलाब के फूल की पंखुड़ियां बहुत ही कोमल और ढेर सारी होती है जिस वजह से गुलाब का फूल देखने में अत्यधिक सुंदर लगता है और इसकी पत्तियां हरे रंग की होती है और यह पूरे तना पर लगी हुई रहती है।

गुलाब के पौधे में ऊपर से लेकर नीचे तक कांटे ही कांटे होते हैं। गुलाब का फूल वर्तमान समय में हर मनुष्य के घर पर पाया जाता है क्योंकि इसका इस्तेमाल पूजा पाठ में भी किया जाता है भगवान को चढ़ाने के लिए इस फूल का इस्तेमाल होता है।

गुलाब के फूलों की 100 से अधिक प्रजातियां पूरे विश्व भर में फैली हुई है जिनमें से कुछ एशिया महादेव के मूल प्रदेशों में पाए जाते हैं एवं कुछ प्रजातियां यूरोप महाद्वीप के मूल प्रदेशों में पाए जाते हैं।

चैती गुलाब दमिश्क तथा बसरा जाति के गुलाब है गुलाबो का इस्तेमाल इत्र और गुलाब जल बनाने के लिए किया जाता है। चेती गुलाब की खेती गाजीपुर में बहुत ही बड़े पैमाने पर की जाती है क्योंकि वही से गुलाब जल और इत्र बनता है।

अगर गुलाब के फूल के इतिहास के बारे में बात कर रहे तो असीरिया की शाहजादी गुलाब प्रजाति कि पीले रंग की प्रजाति को बहुत ज्यादा प्रेम करती थी उनको पीले रंग का गुलाब बहुत पसंद था।

पंडित जवाहरलाल नेहरू को गुलाब का फूल बहुत ज्यादा पसंद है इसलिए वह अपने ऊपर की जेब में गुलाब का फूल हमेशा रखा करते थे। इतना ही नहीं यूरोप के 2 देशों ऐसे थे जहां पर राष्ट्रीय पुष्प गुलाब का एक देश का राष्ट्रीय पुष्प सफेद गुलाब का और दूसरे का लाल गुलाब था।

हमारे भारत देश के राजस्थान राज्य की राजधानी जयपुर को गुलाबी नगर के नाम से जाना जाता है और सबसे पहले गुलाब के इत्र का खोज नूरजहां ने किया था। नूरजहां के शादी के समय गुलाब के इत्र का इस्तेमाल किया गया था तभी से यह पूरे देश में प्रचलित हो गया है।

एक बहुत ही प्रसिद्ध कवि जिनका नाम वर्जिल था वह रोम के निवासी थे उन्होंने सीरिया देश के गुलाब की व्याख्या की है अपनी कविताओं में।

गुलाब के फूलों में अनेक देशों में अलग-अलग नाम है फारसी में फूल को गुलाब कहा जाता है। बंगला में गोलाप, तामिल में इराशा और तेलुगु में गुलाबि के नाम से जाना जाता है अलग-अलग भाषाओं में इस फूल को अलग अलग नाम से जाना जाता है।

शिव पुराण में गुलाब के फूल को देवपुष्प भी कहा गया है। यह अपनी गंध और सुंदरता के लिए पूरे विश्व भर में प्रसिद्ध है इसलिए यह सर्वश्रेष्ठ फूलों में से एक है।

Read Also – Lily Flower Information In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया, information about rose flower in hindi। अगर आपको यह भी से पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें ताकि उनको भी इसके बारे में जानकारी मिल जाए और यदि आप चाहते हैं कि हम इसी तरह information about rose flower in hindi के अन्य विषय पर भी जानकारी दें तो आप उसके लिए हमें कमेंट कर सकते।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,684FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles