कल्पना चावला के बारे में जानकारी 2021 | Kalpana Chawla Information In Hindi

दोस्तों आज मैं आपको इस ब्लॉग में बताने वाला हूं कल्पना चावला जी के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है kalpana chawla information in hindi । कल्पना चावला के बारे में बहुत सारे लोगों को पहले से कुछ ना कुछ पता है लेकिन मैं आज आप को उनके बारे में बहुत ही दिलचस्प बातें और उनकी जीवनी के बारे में बताऊंगा क्योंकि गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते रहते हैं जैसे कि information of kalpana chawla in hindi , information on kalpana chawla in hindi।

तो चलिए शुरू करते हैं

कल्पना चावला के बारे में जानकारी | Kalpana Chawla Information In Hindi | information of kalpana chawla in hindi

कल्पना चावला के बारे में जानकारी 2021 | Kalpana Chawla Information In Hindi

कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 में हरियाणा के करनाल गांव में हुआ था इनके माता का नाम संजयोती देवी और उनके पिता का नाम बनारसी लाल चावला था। कल्पना चावला को लोग भारत की बेटी के नाम से भी संबोधित करते थे।

कल्पना चावला के चार भाई बहन थे और वह सबसे छोटी थी सबसे छोटी होने की वजह से इनका पूरा परिवार इनको बहुत प्यार करता था और प्यार से इनको मोंटू कहते थे।

इनकी प्रारंभिक पढ़ाई टैगोर बाल निकेतन में शुरू हुई थी और जब यह आठवीं कक्षा में पढ़ रही थी तब इनको इंजीनियर बनने की इच्छा थी और यह बात उन्होंने अपने पूरे परिवार को कहा तो उनकी मां ने कल्पना चावला की भावनाओं को समझा और उसको बढ़ने में बहुत मदद की।

उनके पिता बनारसीलाल यह चाहते थे कि उनकी बेटी चिकित्सक या शिक्षिका बने लेकिन कल्पना चावला ऐसा बिल्कुल भी नहीं चाहती थी वह पूरे अंतरिक्ष में घूमना चाहती थी।

कल्पना चावला अन्य किसी दूसरे व्यक्तियों की तरह आलसी नहीं थी और वह असफलता से घबराती भी नहीं थी। टैगोर पब्लिक स्कूल करनाल में उनकी प्रारंभिक शिक्षा हुई थी और उसके आगे की शिक्षा उन्होंने वैमानिक अभियांत्रिकी मैं पंजाब इंजीनियर कॉलेज से करते हुए सन 1982 में एक अभियांत्रिकी स्थानक की उपाधि प्राप्त कर ली थी।

सन 1982 में कल्पना चावला संयुक्त राज्य अमेरिका चली गई और सन 1984 में उन्होंने विमान एक अभियांत्रिकी में विज्ञान निषाद की उपाधि वहां के एक प्रसिद्ध टेक्सास विश्वविद्यालय अर्ली गटन से प्राप्त की।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया को यह पता चला है कि जब कल्पना चावला जब कोलंबिया स्पेस शटल से उड़ान भरी थी तभी उनकी मौत निश्चित हो गई।

उनकी मौत निश्चित है यह जानते हुए भी नासा के वैज्ञानिकों ने उनको इस बात का जानकारी नहीं दी इस बात को बताने वाले मिशन कोलंबिया के प्रोग्राम मैनेजर ने की थी। अंतरिक्ष में कल्पना चावला के साथ उनके अन्य 6 साथी अंतरिक्ष से सभी जानकारी अर्थात पल-पल की जानकारी ना सको भेजते रहे लेकिन इसके बावजूद भी नासा के किसी भी वैज्ञानिकों ने इस बात का उनको थोड़े ही भी भनक नहीं लगने दी कि वह अब धरती पर कभी भी लौट नहीं पाएंगे।

कल्पना एवं अन्य अंतरिक्ष यात्री स्पेस शटल में गए थे उनमें सिर्फ 15 दिन की ही ऑक्सीजन थी और जब 16 वे दिन वह वापस लौट रहे थे तब उनकी मौत दम घुटने से अर्थात घुट घुट के मरने से अच्छा उन लम्हों को बेहतर जीने इच्छा की।

सन 1995 में नासा के अंतरिक्ष कोर्ट में कल्पना चावला शामिल हुई और उनकी पहली उड़ान 19 सौ 98 में तय की गई थी उनका पहला अंतरिक्ष मिशन 19 नवंबर 1997 को छह अंतरिक्ष यात्री दल के हिस्से के रूप में कोलंबिया की उड़ान एसटीएस से शुरू हुआ।

कल्पना चावला ने अमेरिका की नागरिकता प्राप्त कर ली थी उन्होंने सन् 1991 में वहां की नागरिकता प्राप्त की थी। कि 252 कक्षाओं में लगभग 10 मिलियन मील से अधिक यात्रा की और उन्होंने अंतरिक्ष में 372 घंटे से अधिक समय बिताया।

कोलंबिया स्पेस शटल में कल्पना चावला के साथ अन्य छह अंतरिक्ष यात्री भी थे उनका नाम था
कमांडर रिक डी . हुसबंद
पायलट विलियम स. मैकूल
कमांडर माइकल प . एंडरसन
इलान रामों
डेविड म . ब्राउन
लौरेल बी . क्लार्क

अंतरिक्ष में पहुंचने वाली कल्पना चावला पहली भारतीय महिला थी और यह उनकी दूसरी अंतरिक्ष यात्रा थी जब वह लौटते समय अपने प्राण गवा दिए थे। 1 फरवरी 2003 को पृथ्वी कक्ष में प्रवेश करते हुए कल्पना चावला की स्पेस शटल कोलंबिया बिखर कर टूट गया जिस वजह से उस में मौजूद सात अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हो गई।

कल्पना चावला के मरने के बाद उनको कई तरह के पुरस्कार दिए गए जैसे कांग्रेसनल अंतरिक्ष पदक के सम्मान नासा अंतरिक्ष उड़ान पदक नासा विशिष्ट सेवा पदक इत्यादि से सम्मानित किया गया।

न्यूयॉर्क शहर में जंक्शन हाइट्स स्वीस के 74 स्ट्रीट के नाम को बदलकर 74 स्ट्रीट कल्पना चावला के नाम पर रख दिया गया।
कर्नाटक सरकार द्वारा कल्पना चावला पुरस्कार स्थापित किया गया यह सन 2004 में हुआ यह युवा महिला वैज्ञानिकों के लिए स्थापित किया गया था।

पंजाब के इंजीनियरिंग कॉलेज में लड़कियों के रहने वाले छात्रावास में रखा गया है इसके अलावा एक पदक और एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग विभाग का सर्वश्रेष्ठ छात्र को पुरस्कार के रुप में भी स्थापित किया गया।

कल्पना चावला मर कर भी हम सभी भारत वासियों के दिल में अमर हो गई क्योंकि उनको सभी भारत की बेटी के रूप में संबोधित किया करता था और उनको भारत की बैटरी की तरह सम्मान भी दिया जाता था।

कल्पना चावला का भाई संजय चावला ने यह कहा कि मेरे लिए मेरी बहन मरी नहीं है वह अमर हो गई है वह आकाश में स्थापित अर्थात एक अस्थाई सितारे के रूप में हमेशा के लिए स्थित हो गई है।

उनका जन्म 17 मार्च 1962 को हुआ था यह बात हम सभी को विदित है लेकिन ऑफीशियली उनकी जन्मतिथि 1 जुलाई 1961 दर्ज कराई गई थी ताकि उनके दाखिले में किसी भी तरह की समस्या ना आए और बहुत ही आसानी से उनका दाखिला हो जाए।

कल्पना चावला का विवाह जीन पीएर हैरिसन से हुआ था। इनका विवाह सन 1983 में हुआ था। जीन पीएर हैरिसन यह एक उड़ान प्रशिक्षक और विमान लेखक थे।

Read Also – Information About Subhash Chandra Bose In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों हमने आपको इस ब्लॉग में लिखकर बताया kalpana chawla information in hindi । अगर आपको यह विषय पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यद्यपि आप चाहते हैं कि हम किसी अन्य विषय पर भी आपको जानकारी दे तो आप उसके लिए भी हमें कमेंट कर सकते हैं और यदि आप किसी अन्य विषय पर जानकारी चाहते हैं तो उसके लिए भी हमें कमेंट कर सकते है।

Leave a Comment