गेंदा फूल की जानकारी 2021 | Marigold Flower Information In Hindi

दोस्तो आज मैं आप को इस ब्लॉग में गेंदे के फूल के बारे में आप को जानकारी दूंगा अर्थात आज का हमारा विषय है marigold flower information in hindi। फूलो के बारे में तो लोग थोड़ा बहुत तो जानते है लेकिन गेंदे का फूल ऐसा फूल है जिसके बारे में बहुत कम लोगो को पता होगा इसलिए मैं आप को इसकी पूरी जानकारी दूंगा क्युकी गूगल पर बहुत सर्च होते है जैसे marigold flower in hindi , marigold in hindi , genda flower in hindi, information about marigold flower in hindi

तो चलिए शुरू करते हैं।

गेंदा फूल की जानकारी | marigold flower information in hindi | marigold flower in hindi

गेंदा फूल की जानकारी 2021 | Marigold Flower Information In Hindi

गेंदा का फूल हमारे देश में बहुत ही महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्युकी हमारे देश में इस फूल का कई स्थानों पर उपयोग किया जाता है।

गेंदे के फूल का वैज्ञानिक नाम tagetes हैं। गेंदा का फूल हमारे भारत देश में सर्वाधिक पाया जाता है क्योंकि अन्य देशों में इसकी प्रजातियां बहुत कम है और कई लोगों को इसके बारे में अभी तक पता नहीं है इस वजह से हमारे भारत देश में यह फूल बहुत ज्यादा उगाया जाता है और किसी भी धार्मिक स्थल एवं धार्मिक कार्यों में इस फूल का उपयोग किया जाता है।

वर्तमान समय में शादी विवाह में भी गेंदे के फूल की सजावटे होती हैं और किसी भी बाग बगीचे को सुंदर दिखाने के लिए गेंदे का फूल का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह बहुत ही सुंदर लगते हैं जब एक साथ रहते हैं तो।

यह फूल हमारे भारत देश में बहुत ज्यादा उपयोगी है और इस फूल को बहुत ही आसानी से उगाया जा सकता है इसलिए बहुत सारे किसान इस फूल की खेती करते हैं और इसका व्यापार भी किया जाता है क्योंकि इस फूल की मांग बाजारों में बहुत ज्यादा है।

जैसे हम अपनी भाषा में इस फूल को गेंदे का फूल कह रहे हैं उसी तरह हमारा भारत देश की गुजराती और मारवाड़ी भाषा में इस फूल को अलग नामों से जाना जाता है गुजराती भाषा में यह फूल गलगोटा नाम से जाना जाता है और मारवाड़ी भाषा में इसे हंजारी गजरा के नाम से जाना जाता है।

यह फूल विभिन्न रंगों में पाया जाता है इस फूल का रंग पीला नारंगी और मेहरून रंग का भी होता है। यह फूल ठंडी के मौसम में उगते हैं अर्थात गेंदे का फूल ठंडी के मौसम में फूलता है और यह पूरी ठंडी के मौसम में रहता है लेकिन इस फूल में अधिक खुशबू नहीं होती यह बहुत ही तीखी गंध छोड़ता है।

कोलकाता मद्रास दिल्ली मुंबई बेंगलुरु 19857 टन गेंदे के फूल का उत्पाद होता है। इन स्थानों पर सबसे अधिक गेंदे का फूल गाया जाता है और उसका व्यापार किया जाता है।

गेंदे का फूल अमेरिका में पुर्तगालियों द्वारा खोजा गया था वह 16वीं शताब्दी का समय था। जहा उन स्थानों पर इस फूल का उपयोग धार्मिक स्थलों एवं कार्यों में तथा हर्बल दवाओं में भी उपयोग किया जाता था। उसके बाद इस फूल को स्पेनिशो द्वारा इस पर लाया गया और वहीं से इस फूल के बीज का व्यापार पूरे यूरोप में किया जाने लगा जिस वजह से पूरे यूरोप में यह फूल फैल गया।

स्पेन ही वह स्थान है जहां पर इस फूल को मैरिज गोल्ड के नाम से जाना जाने लगा और फिर समय बीतने के साथ-साथ इस फूल का नाम मेरीगोल्ड पड़ गया।

गेंदे का फूल का उपयोग औषधियों के रूप में भी किया जाता है। अगर आपके कानों में दर्द है तो आप गेंदे के पत्तियों का रस निकालकर कानों में डालने से दर्द में तुरंत राहत प्रदान होता है।

गेंदे का फूल त्वचा के रोग के लिए भी बहुत कारगर साबित होता है क्योंकि त्वचा की सूजन के लिए जिन दवाइयों का इस्तेमाल किया जाता है उन दवाइयों में गेंदे का फूल इस्तेमाल किया जाता है।

यदि आप गेंदे का फूल अपने घरों के आंगन में लगाते हैं तो इससे आपके घर में किसी भी व्यक्ति को मलेरिया जैसी बीमारी नहीं होगी क्योंकि यह सभी व्यक्तियों को दूर भगा देता है और आपका परिवार मलेरिया जैसी बीमारी से बच जाएगा।

इस फूल को उगाए कैसे

इस फूल को गाना बहुत ही ज्यादा आसान है इसके लिए आपको सबसे पहले फूल के बीजों को इकट्ठा कर लेना है और इकट्ठा करने के लिए आपको कड़ी मेहनत नहीं करनी पड़ेगी क्योंकि इसके बीज के फूल के अंदर ही होते हैं जो फूल पूरी तरह से सूख जाए उनको ले और उसको अच्छी तरह से छील ले।

उसके बाद आप जैसा स्थान पर इसे उगाना चाहते हैं वहां पर आपको अच्छी तरह से खोद लेना है और फिर उसके बाद वहां पर उसके बीज को डाल दें और वहां पर पानी डालकर अच्छी तरह से उसे बराबर कर दे।

उसके बाद वह फूल धीरे-धीरे उठना शुरू हो जाएगा और आपको उसका देखरेख करना पड़ेगा। उसके बाद जब वह 5 से 6 इंच के हो जाएं तब उनको निकालकर उस आसान पर लगाए जहां पर आप उसको लगाना चाहते हैं।

उसके बाद उसकी देखरेख करें और जब वह अच्छी तरह से बड़े हो जाएंगे तब उनमें फूल लगना शुरू हो जाएगा। इसमें आपको यह ध्यान रखना है कि इसके पत्ते को कीड़े ना खाने पाए और आपको उसमें गोबर की खाद जो प्राकृतिक तरीके से बनती है जानवरों के गोबर से उसका उपयोग करें जिससे उसको अधिक पोषण मिलेगा।

जब यह फूल पूर्ण विकसित हो जाएंगे अर्थात इसके फूल 45 दिनों के अंदर आना शुरू कर देंगे।

हिंदू धर्म के समुदाय के लोगों में गेंदे का फूल अत्यधिक उपयोग किया जाता है जब भी किसी शुभ कार्य के लिए सजावट की जाती है तब वहां पर गेंदे का फूल इस्तेमाल किया जाता है और भगवान की पूजा अर्चना में भी गेंदे का फूल बहुत अधिक इस्तेमाल होता है। भगवान के ऊपर चढ़ाए जाने वाले मालाओं में भी गेंदे का उपयोग होता है।

Read Also – Ashoka Tree Information In Hindi

निष्कर्ष

दोस्तों अभी हमने आपको इस ब्लॉग में marigold flower information in hindi। यदि आपको या पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यद्यपि आप चाहते हैं कि हम इसी तरह के marigold flower information in hindi अन्य विषय पर भी आपको जानकारी दे तो आप उसके लिए हमें कमेंट कर सकते हैं हम अवश्य ही उस विषय पर आपको जानकारी देंगे।

Leave a Comment