सुंदर पिचाई के बारे में जानकारी 2021 | Sundar Pichai biography in hindi

दोस्तों आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने वाले हैं सुंदर पिचाई जी के बारे में अर्थात आज का हमारा विषय है sundar pichai biography in hindi।

सुंदर पिचाई का नाम तो हम सभी ने सुना है लेकिन उनके जीवन शैली एवं उनके कार्यों के बारे में हम में से किसी को नहीं पता जिस वजह से गूगल पर प्रतिदिन इस तरह के सर्च होते रहते हैं जैसे कि sundar pichai history in hindi , sundar pichai life story in hindi इसलिए मैं आप को उनके बारे में कुछ बातें बताऊंगा।

तो चलिए शुरू करते हैं

 

सुंदर पिचाई के बारे में जानकारी | Sundar pichai biography in hindi | sundar pichai history in hindi

 Sundar Pichai

सुंदर पिचाई का जन्म 12 जुलाई 1972 में हमारे भारत देश के तमिलनाडु राज्य के मदुरै जिले में हुआ था इनके पिता का नाम रघुनाथ पिचाई तथा इनकी माता का नाम लक्ष्मी पिचाई था। सुंदर पिचाई ने अपना प्रारंभिक शिक्षा जवाहर विद्यालय से पूर्ण करें उसके पश्चात इन्होंने अपनी 11th 12th कक्षा की पढ़ाई या ना माने विद्यालय से ग्रहण करें।

सुंदर पिचाई ने मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग इस विषय में डिग्री प्राप्त करी है इन्होंने इस डिग्री को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर से ग्रहण की है इसके पश्चात यह अमेरिका चले गए वहां जाकर इन्होंने स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में अपना दाखिला कराया और वहां पर उन्होंने भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग के विषय में मास्टर ऑफ साइंस का डिग्री प्राप्त किया।

सुंदर पिचाई एमबीए की डिग्री हासिल की है उन्होंने हावर्ड स्कूल ऑफ पेंसिल्वेनिया से ग्रहण की है। सुंदर पिचाई की याद करने की क्षमता इतनी तीव्र है कि यदि वह किसी का नंबर एक बार फोन में डाल कर ले तो उनको नंबर याद हो जाता है।

सुंदर पिचाई तमिलनाडु के एक साधारण परिवार से थे जहां पर संपूर्ण रुप से सभी सुविधाएं उपलब्ध नहीं थी उसके बावजूद भी सुंदर पिचाई ने अपनी पढ़ाई पूरी की और गूगल कंपनी को ज्वाइन किया उसके बाद इनकी काबिलियत को देखकर माइक्रोसॉफ्ट एवं अन्य कंपनियों ने इनको नौकरी का प्रस्ताव दिया लेकिन इन्होंने उन सभी के प्रस्ताव को ठुकरा कर गूगल के साथ बने रहने का फैसला किया।

 

सुंदर पिचाई गूगल को ज्वाइन करने से पहले एक मैकिंसे एंड कंपनी मैं कार्य किया करते थे और वहां पर उन्होंने कुछ सालों तक कार्य किया तत्पश्चात उन्होंने गूगल कंपनी में शामिल हुए और जब इन्होंने इस कंपनी में नौकरी कर रहे थे तब यह एक छोटी सी टीम में थे जो गूगल सर्च टूल बार पर कार्य किया करती थी।

सुंदर पिचाई में गूगल क्रोम को बनाने में अहम भूमिका निभाई और उनके नए आइडियाज एवं विचारों के जरिए गूगल क्रोम दुनिया का नंबर वन ब्राउज़र बन गया मात्र कुछ ही समय में उसके पश्चात और सुंदर पिचाई को सन 2008 में इस कंपनी के उत्पाद विकास विभाग का अध्यक्ष बनाया गया तथा उसके 4 साल बाद अर्थात 2012 में उनको क्रोम और एप्स के वरिष्ठ अध्यक्ष की उपाधि दी गई। इनके इन कार्यों को देखते हुए गूगल ने इनको सीईओ बना दिया और इस कंपनी को ऊपर उठाने में इनका बहुत बड़ा योगदान है।

 

सुंदर पिचाई के ऊपर किसी भी तरह के विवाद का दाग नहीं है वह बहुत ही साफ छवि वाले व्यक्ति हैं लेकिन सन 2018 में जेम्स डेमोर लिखे गए एक मेमो के चलते उनको बाहर निकाला गया उन्होंने अपने मेमो में लिखा था कि गूगल महिलाओं को कम मौका देती है जिस वजह से गूगल में महिलाएं बहुत कम मात्रा में काम कर रही हैं इसलिए सुंदर पिचाई ने उनको बाहर निकाला और अपनी सफाई देते हुए कहा कि उनको निकालने का निर्णय हमारा बिल्कुल सही था।

हम आपको बता दें कि सन 2011 में सुंदर पिचाई गूगल को छोड़कर ट्विटर कंपनी ज्वाइन करने का फैसला कर लिया जिसके पश्चात गूगल कंपनी ने इनको अधिक पैसे देकर ट्विटर कंपनी ज्वाइन करने से रोका।

सुंदर पिचाई की पत्नी का नाम अंजली पिचाई है यह दोनों एक ही कॉलेज से अपने आईआईटी की पढ़ाई कर रहे थे जी द्वारा नैनो ने एक-दूसरे को डेट करना शुरू किया और कुछ समय पश्चात इन दोनों ने शादी कर ली। इन दंपति को दो संताने प्राप्त हुए जिनमें एक बेटी रहा दूसरा बेटा था। सुंदर पिचाई को प्रतिवर्ष सिक्स पॉइंट 5 लाख डॉलर मिलते थे लेकिन 2015 के बाद 2018 यह 1881066 अमेरिकी डॉलर हो गए।

सुंदर पिचाई को सन 2019 में अल्फाबेट इन किस कंपनी का सीईओ बना दिया क्या जो गूगल की पैरंट कंपनी है। सुंदर पिचाई उस गांव में रहने वाले व्यक्ति जहां पर पहले कोई भी इतनी बड़ी कंपनी को ज्वाइन नहीं किया था और उनके लिए भी यह कर पाना बहुत ही मुश्किल था लेकिन उनकी कड़ी मेहनत और सफलता को पाने की इच्छा ने उनको इस मुकाम तक पहुंचाया गूगल के साथ काम करते हुए इन्होंने नए-नए आईडिया स्कोर गूगल पर बताया जिस वजह से गूगल आज सुंदर पिचाई को किसी भी हालत में अपनी कंपनी से दूर नहीं जाने देना चाहते।

सुंदर सिंचाई के गूगल ज्वाइन करने से पहले कई सारे ब्राउज़र मार्केट में पहले से मौजूद थे लेकिन उसके बावजूद भी इन्होंने गूगल क्रोम बनाने का आईडिया बताओ उस पर यूजर्स को एक सामान्य इंटरफ़ेस देकर उन्होंने अन्य कंपनियों को बहुत ही कम समय में पीछे छोड़ दी और हम सभी को वर्तमान समय में यह बात विदित है कि किसी भी तरह के कार्य एवं जानकारी के लिए हम सभी अब सिर्फ गूगल और क्रोम पर ही जाते हैं क्योंकि यहां पर बहुत ही आसानी और सटीकता से जवाब मिल जाता है। सुंदर पिचाई को सबसे अधिक सैलरी पाने वाला कहा गया है क्योंकि इनकी सैलरी यदि हम इंडियन रुपीस में देखे तो 3 पॉइंट 6 करोड़ पर डे है।

 

सुंदर पिचाई भारत में जन्मे हुए पहले ऐसे व्यक्ति हैं जो गूगल कंपनी के सीईओ बने और हमारे भारत देश के लिए बहुत बड़ी बात है यह वर्तमान समय में अमेरिका के निवासी हैं और इनके नागरिकता भी अमेरिका की ही है एक बार इनसे पूछा गया कि आप किस देश के नागरिक है तो उन्हें बहुत ही प्यारा जवाब दिया कि मैं रहता अमेरिका में हूं लेकिन भारत के बिना मैं कुछ भी नहीं।

 

Read Also – Mary kom biography in hindi

 

निष्कर्ष

दोस्तों मैंने आपको इस ब्लॉग में बताया sundar pichai biography in hindi। अगर आपको इनके बारे में जानकारी अच्छा लगा हो तो इसे आप अपने दोस्तों के साथ भी साझा करें और यदि आपका कोई सवाल है तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते हैं।

Leave a Comment